Wheat Price Hike : गेंहू के दाम पहुंचे 7वें आसमान पर, क्‍या 3500 रुपये क्विंटल खरीदना पड़ेगा गेहूं?

 

Wheat Price Hike : भारत में गेंहू की कीमत लगातार बढ़ती ही जा रही है। पिछले साल जहां गेंहू की कीमत में 37 फीसदी इजाफा हुआ था। वहीं अबकी बार इससे कही ज्यादा तेजी अभी से दर्ज की जा चुकी है। गेंहू के दाम अगर इसी तरह तेजी बनी रही तो भारत में भी पाकिस्तान की तरह रोटी के लाले पड़ सकते हैं। 

वैसे तो भारत दुनिया में गेहूं का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। लेकिन पिछले साल गर्मी बढ़ने से गेहूं का उत्पादन प्रभावित हुआ था। यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद दुनियाभर में गेहूं का संकट पैदा हो गया था। इससे भारत से निर्यात बढ़ने लगा था और घरेलू स्तर पर कीमतें चढ़ रही थीं। 

वही एक रिपोर्ट में डीलरों और किसानों के हवाले से कहा गया है कि पिछले साल कम उत्पादन के कारण घरेलू बाजार में गेहूं की कमी हो गई है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2022 में देश में गेहूं का उत्पादन 10.684 करोड़ टन रहा था जो एक साल पहले 10.959 करोड़ टन था।

इंदौर मार्केट में गेहूं की कीमत रेकॉर्ड 29,375 रुपये प्रति टन पहुंच गई है। इस महीने इसकी कीमत में सात फीसदी तेजी आ चुकी है। दिल्ली में सोमवार को गेहूं की कीमत में करीब दो फीसदी तेजी आई और यह रेकॉर्ड 31,508 रुपये प्रति टन पहुंच गई। एक ग्लोबल ट्रेडिंग फर्म में डीलर ने कहा कि अगर सरकार ने अगले 15 दिन में गेहूं का स्टॉक जारी नहीं किया तो इसकी कीमत में पांच से छह फीसदी तेजी आ सकती है।